Tahelka news

www.tahelkanews.com

गजब– सरकारी सिस्टम का कमाल,जिंदा महिला को बता दिया मृत,, नहीं दिया गर्भवती महिला को  संबल योजना का लाभ 

गजब– सरकारी सिस्टम का कमाल,जिंदा महिला को बता दिया मृत नहीं दिया गर्भवती महिला को  संबल योजना का लाभ

 

 

सोनू राठौर

न्यूज1express:-भैंसदेही :-) भैंसदेही में सरकारी सिस्टम में किस तरह से लापरवाही होती हैं इसका एक नजारा मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की भैंसदेही में देखने को मिला है.जहां एक जिंदा महिला को मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना पंजीयन प्रमाण पत्र में मृत बता दिया. आपको जानकर आपको हैरानी होगी लेकिन हकीकत यही है कि सरकारी सिस्टम में महिला को मृत बता दी गयी महिला खुद को जिंदा साबित करने के लिए पिछले एक माह से भटक रही है।
विडंबना है कि शिवराज सरकार ने गरीब गर्भवती महिलाओं के लिए बड़ा एलान किया है जिससे संबल योजना के तहत गर्भवती महिलाओं के खाते में मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा 16 हजार रुपये डाले जाएंगे। बच्चे के जन्म से पहले 4 हजार रुपये डाले जाएंगे और जन्म के बाद 12 हजार रुपये डाले जाएंगे।
लेकिन जब ग्राम देड़पानी की नर्मदा बाई ने इस राशि को पाने के लिए अपने सभी दस्तावेज स्वास्थ्य विभाग में दिए तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने उन दस्तावेजों को खारिज कर दिया। और बताएं कि मुख्यमंत्री जल कल्याण संबल योजना में महिला का नाम पोर्टल पर मृत बता रहा है आपको इस योजना का लाभ नहीं मिल पाएगा जिसके बाद महिला आश्चर्यचकित हो गई और उसने इस पूरे मामले को लेकर शिकायत किए जाने की बात कही।

भैंसदेही जनपद की ग्राम पंचायत देड़पानी के सुभाष पाटिल ने इस पूरे घटनाक्रम को लेकर बैतूल जिला कलेक्टर की जनसुनवाई में भी आवेदन प्रस्तुत कर समस्या का समाधान किए जाने की बात कही लेकिन उसके बाद भी अभी तक सुभाष पाटिल की पत्नी नर्मदा बाई का नाम संबल योजना के पंजीयन कार्ड में मृत यही बता रहा है सुभाष पाटिल का कहना है कि मेरी पत्नी को संबल योजना में अपात्र बता दिया गया और उनकी मृत्यु दर्शाई गई है मुझे इस मामले की जानकारी तब पता लगी जब मैंने अपनी पत्नी के डिलीवरी के दस्तावेज स्वास्थ्य विभाग में दिए थे उन सभी दस्तावेजों को मुझे वापस कर दिया गया और स्वास्थ्य विभाग में इनके दस्तावेज को खारिज कर दिया। वहीं नर्मदा बाई के पति सुभाष पाटिल ने इस पूरे मामले को लेकर सचिव पर लापरवाही का आरोप भी लगाया कि सचिव द्वारा ही यहां सत्यापन किया गया।

ग्राम देड़पानी के गोलीढाना मैं रहने वाली नर्मदा बाई की एक बेटी और एक बेटा भी है और वहां पूरे परिवार के साथ ग्राम देड़पानी मैं रहती है एक जिंदा महिला को सरकारी सिस्टम में 01/06/1974 में ही मृत बता देना सबसे बड़ी लापरवाही उजागर करती है। जब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान संबल योजना के तहत गर्भवती महिलाओं के लिए योजना बनाकर उन्हें लाभ देने का कहते हैं तो वही शासन के नुमाइंदे यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की इन योजनाओं को पलीता लगाते नजर दिखाई दे रहे हैं अब देखना यह होगा इस पूरे मामले पर क्या दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है या नहीं यह तो आने वाला समय ही बता पाएगा।

इनका कहना
जनपद पंचायत सीईओ अंशुमन राज ने कहा कि मीडिया के माध्यम से मुझे जानकारी मिली है मैं इस मामले की जांच टीम बनाकर जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी

You may have missed

%d bloggers like this: